हिन्‍दी भाषा – विशेषण

विशेषण परिभाषा, प्रकार एवं पहचान

परिभाषा- जो संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताएं उसे विशेषण कहते है तथा जिसकी विशेषता बताई जाए,वह विशेष्‍य कहलाता है।

उदाहरण- काला घोड़ा, सफेद कमीज, नीला आकाश

विशेषण के प्रकार- गुण और परिमाण के आधार पर विशेषण का वर्गीकरण इस प्रकार किया गया है-

1- सार्वनामिक विशेषण/संकेतवाचक

2- गुणवाचक विशेषण

3- संख्‍यावाचक विशेषण

4- परिमाणवाचक विशेषण • •1- सार्वनामिक विशेषण/संकेतवाचक- जो सर्वनाम शब्‍द विशेषण की तरह प्रयुक्‍त होते है, उन्‍हे सार्वनामिक विशेषण कहते है

पहचान- यह, वह

उदाहरण- वह नौकर नही आया।

यह घोड़ा अच्‍छा है।

वह आदमी हमारा शत्रु है • •

2- गुणवाचक विशेषण- जिस विशेषणों से पदार्थ के गुण,रंग, आकार, दशा, अवस्‍था, रूप आदि का बोध होता है, उन्‍हे गुणवाचक विशेषण कहते है जैसे- भला, बुरा, पापी,सरल दुष्‍ट,लम्‍बा, चौड़ा, लाल, पीला,गोल, टेढ़ा, पतला,मोटा ताजा आदि। • • •

उदाहरण-

1- मोहन बहुत मोटा है।

2- यह किताब पुरानी है।

3- दूध गाढ़ा है।

4- राम बहुत दानी है

3- संख्‍यावाचक विशेषण- जिन शब्‍दों से संज्ञा/सर्वनाम की संख्‍या का बोध हो उसे संख्‍यावाचक सवर्नाम कहते है जैसे- तीन घोड़े, चार लड़के, कुछ लोग, सब लोग आदि।

संख्‍यावाचक विशेषण पांच प्रकार का होता है-

1- गणनाबोध

2- क्रमबोधक

3- आव़ृत्तिबोधक

4- समुदायबोधक

5- प्रत्‍येकबोधक

1- गणनाबोधक – यह वस्‍तुओं की गणना बताता है जैसे- सात आम, 10 केले आदि।

उदाहरण-

1-इस झोले में 10 आम है।

2-आधा किलो चीनी मिली।

3-दो आदमी जा रहे है। • • •

2- क्रमबोधक – यह क्रम के अनुसार गणना का बोध कराता है जैसे- पहला लड़का,चौथी लड़की आदि।

उदाहरण-

1-पहला व्‍यक्ति आगे रहेगा।

2-तीसरे और चौथे लड़के एक दूसरे के पीछे रहेंगे।

3- आवृत्तिबोधक – जो संख्‍यावाचक विशेषण किसी संख्‍या की आवृत्ति को सूचित करता है, उसे आवृत्तिबोधक कहते है। जैसे- दूना, तिगुना, चार गुना, दोबारा,तिबारा आदि।

उदाहरणइस कक्षा में पिछली बार की तुलना में छोत्रों की संख्‍या दूगनी है।

4-समुदायबोधक- जो संख्‍यावाचक विशेषण समूह या समुदाय का बोध कराए उसे समुदायबोधक कहते है। जैसे- दोनो, तीनों,चारो, पांचों आदिउदाहरण- दोनो लोग कहॉ जा रहे हो। • •

5- प्रत्‍येकबोधक विशेषण- जो संख्‍या एक का बोध करांए, उसे प्रत्‍येकबोधक संख्‍या कहते है। जैसे- हरेक, प्रत्‍येक, एक-एक

उदाहरण -देश के प्रत्‍येक नागरिक को समानता का मौलिक अधिकार प्राप्‍त है।

4- परिमाणवाचक विशेषण- जिस विशेषण से संज्ञा के परिमाण का बोध हो उसे परिमाणवाचक विशेषण कहते है जैसे- जीवनभर, थोड़ी, दो सेर, बहुत आदि

उदाहरण- मुझे थोड़ी चाय दो।

यह गाय बहुत दूध देती है

9 thoughts on “हिन्‍दी भाषा – विशेषण”

  1. Fantastic web site. Lots of helpful information here. I’m sending it to a few buddies ans additionally sharing in delicious. And certainly, thank you for your sweat!

  2. Thanks , I’ve recently been searching for info approximately this topic for ages and yours is the best I’ve discovered till now. But, what in regards to the conclusion? Are you positive in regards to the supply?

  3. I do not even know the way I stopped up right here, however I believed this publish used to be great. I do not know who you’re but certainly you are going to a well-known blogger for those who are not already 😉 Cheers!

  4. I am really loving the theme/design of your site. Do you ever run into any browser compatibility problems? A small number of my blog audience have complained about my blog not operating correctly in Explorer but looks great in Firefox. Do you have any suggestions to help fix this issue?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *